ढाका: बांग्लादेश में कई दिनों से जारी सांप्रदायिक हिंसा के बीच एक बार फिर कट्टरपंथियों ने हिंदुओं को निशाना बनाया है. दुर्गापूजा त्योहार के दौरान पिछले सप्ताह मंदिर में तोड़फोड़ के विरोध में अल्पसंख्यक समुदाय के प्रदर्शन के बीच हमलावरों के एक ग्रुप ने हिंदुओं के करीब 29 घरों में आग लगा दी.  ‘BDNews24.Com’ की खबर के मुताबिक रविवार देर रात रंगपुर जिले के पीरगंज के एक गांव में हिंदुओं के घरों को निशाना बनाया गया है.

फेसबुक पोस्ट से फैली अफवाह
खबर में रंगपुर के एसपी मोहम्मद कमरूजम्मां के हवाले से बताया गया कि एक फेसबुक पोस्ट से अफवाह फैली कि गांव के एक युवा हिंदू व्यक्ति ने ‘धर्म का अपमान’ किया है, जिसके बाद वहां पुलिस रवाना हुई. खबर में बताया गया कि पुलिस व्यक्ति के घर के बाहर तैनात रही वहीं हमलावरों ने दूसरे घरों में आग लगा दी. फायर कंट्रोल रूम ने बताया कि पीरोगंज माझीपारा इलाके में 29 घरों, दो रसोईघरों, दो खलिहानों और सूखी घास के 20 ढेर में आग लगाई गई थी. खबर में बताया गया कि ‘अनियंत्रित भीड़’ ने आग लगाई है.

हिंदू मंदिरों पर भी हुए हमले
खबर में बताया गया कि फायर डिपार्टमेंट को रविवार रात पौने नौ बजे आग लगने की सूचना मिली और सोमवार सुबह तक आग पर काबू पाया जा सका. घटना में किसी के हताहत होने की फिलहाल कोई खबर नहीं है. जानकारी के मुताबिक कोमिला इलाके में दुर्गापूजा के एक पंडाल में कथित ईशनिंदा के बाद फैले सांप्रदायिक तनाव के कारण आग लगाने की घटना हुई. पिछले हफ्ते कोमिला इलाके में हुई घटना के कारण हिंदू मंदिरों पर हमले किए गए और कोमिला, चांदपुर, चटग्राम, कॉक्स बाजार, बंदरबन, मौलवीबाजार, गाजीपुर, फेनी सहित कई जिलों में पुलिस और हमलावरों के बीच संघर्ष हुए.

 चार हिंदू श्रद्धालुओं की मौत
खबर में बताया गया कि हमले के बाद सोशल मीडिया पर सांप्रदायिक नफरत फैलाने को लेकर कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है. बांग्लादेश हिंदू बुद्धिस्ट क्रिश्चियन यूनिटी काउंसिल ने आरोप लगाया है कि चांदपुर और नोआखाली में हमलों में कम से कम चार हिंदू श्रद्धालुओं की मौत हो गई. इस बीच एंटी क्राइम रैपिड एक्शन बटालियन (आरएबी) ने फेनी में हिंदू अल्पसंख्यक समुदाय की दुकानों और मंदिरों में तोड़फोड़ को लेकर दो और लोगों को गिरफ्तार किया है.